Jashn E Bahaara Best Lyrics – Jodha Akbar 2008

Jashn E Bahaara Lyrics - Jodha Akbar

Jashn E Bahaara Best Lyrics - Jodha Akbar

Jashn E Bahaara Lyrics

Song – jashn-e-bahaara
Singer – Javed Ali
Lyrics – Javed Akhtar
Music – A.R.Rahman
Music Label – T- series
Movie – Jodhaa Akbar
Release Date – 15 February 2008
Director – Ashutosh Gowariker
Producer – Ronnie Screwvala, Ashutosh Gowariker
Cast – Aishwarya Rai, Hrithik Roshan, Sonu Sood, Kulbhushan Kharbanda, Ila Arun

Jashn E Bahaara Lyrics in Hindi

कहने को जश्न-ए-बहारा है
इश्क़ ये देख के हैराँ है
कहने को जश्न-ए-बहारा है
इश्क़ ये देख के हैराँ है
 
फूल से खुशबू ख़फ़ा-खफा है गुलशन में
छुपा है कोई रंज फिज़ा की चिलमन में
सारे सहमे नज़ारे हैं
सोये-सोये वक्त के धारे हैं
और दिल में खोई-खोई सी बातें हैं 
 
कहने को जश्न-ए-बहारा है
इश्क़ ये देख के हैराँ है
फूल से खुशबू ख़फ़ा-खफा है गुलशन में
छुपा है कोई रंज फिज़ा की चिलमन में
 
कैसे कहें क्या है सितम
सोचते हैं अब ये हम
कोई कैसे कहे वो हैं या नहीं हमारे
 
करते तो हैं साथ सफर
फासले हैं फिर भी मगर
जैसे मिलते नहीं किसी दरिया के दो किनारे
 
पास हैं फिर भी पास नहीं
हमको ये गम रास नहीं
शीशे की इक दीवार है जैसे दरमियाँ
 
सारे सहमे नज़ारे हैं
सोये-सोये वक्त के धारे हैं
और दिल में खोई-खोई सी बातें हैं
 
हमने जो था नगमा सुना
दिल ने था उसको चुना
ये दास्तान हमें वक्त ने कैसी सुनाई
 
हम जो अगर हैं गमगीं
वो भी उधर खुश तो नहीं
मुलाकातों में है जैसे घुल सी गई तन्हाई
 
मिलके भी हम मिलते नहीं
खिलके भी गुल खिलते नहीं
आँखों में हैं बहारें, दिल में खिज़ा
 
सारे सहमे नज़ारे हैं
सोये-सोये वक्त के धारे हैं
और दिल में खोई-खोई सी बातें हैं
 
कहने को जश्न-ए-बहारा है
इश्क़ ये देख के हैराँ है
फूल से खुशबू ख़फ़ा-खफा है गुलशन में
छुपा है कोई रंज फिज़ा की चिलमन में

 

Jashn E Bahaara Lyrics in English

Kehne ko jashn-e-bahaara hai
Ishq yeh dekhke hairan hai 
Kehne ko jashn-e-bahaara hai
Ishq yeh dekhke hairan hai 

Phool se khusboo khafa khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein
Saare sehmein nazaare hain
Soye soye waqt ke dhaare hain
Aur dil mein khoyi khoyi si baatein hain

Kehne ko jashn-e-bahaara hai
Ishq yeh dekhke hairan hai
Phool se khusboo khafa khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein

Kaise kahen kya hai sitam
Sochte hain ab yeh hum
Koyi kaise kahen woh hai ya nahi humaare

Karte toh hain saath safar
Faasale hain phir bhi magar
Jaise milte nahi kisi dariya ke do kinaare

Paas hain phir bhi paas nahi
Humko yeh gum raas nahi
Seeshe ki ek diware hai jaise darmiya

Saare sehmein nazare hain
Soye soye waqt ke dhaare hain
Aur dil mein khoyi khoyi si batein hain 

Kehne ko jashn-e-bahaara hai
Ishq yeh dekhke hairan hai
Phool se khusboo khafa khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein

Hum ne jo tha nagma suna
Dil ne tha usko chuna
Yeh dastaan humein waqt ne kaisi sunayi

Hum jo agar hai gumgee
Woh bhi udhar khush toh nahi
Mulakato mein hai jaise ghul si gai tanhai

Milke bhi hum milte nahi
Khilke bhi gul khilte nahi
Aankhon mein hai bahaaren dil mein khiza

Sare sehmein nazare hain
Soye soye waqt ke dhaare hain
Aur dil mein koyi khoyi si baten hain 

Kehne ko jashn-e-bahaara hai
Ishq yeh dekhke hairan hai
Phool se khusboo khafa khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein

For More Song Lyrics Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published.