Jubin Nautiyal – Dil Pe Zakhm Song Lyrics

Jubin Nautiyal - Dil Pe Zakhm Song Lyrics

Jubin Nautiyal - Dil Pe Zakhm Song Lyrics

Jubin Nautiyal – Dil Pe Zakhm Song Lyrics

Song Name : Dil Pe Zakhm
Singer : Jubin Nautiyal
Music Director : Rochak Kohli
Lyrics by : Manoj Muntashir

Dil Pe Zakhm Song Lyrics In English

Hasta Hua Yeh Chehra
Bas Nazar Ka Dokha Hai
Tumko Kya Khabar Kaise
Aansuon Ko Roka Hai

Ho Tumko Kya Khabar Kitna
Main Raat Se Darta Hoon
Sau Dard Jaag Uthte Hain
Jab Zamana Sota Hai

Haan Tumpe Ungaliyan Na Uthe
Isliye Gham Uthate Hain
Dil Pe Zakhm Khate Hain

Dil Pe Zakham Khate Hain
Aur Muskurate Hain
Dil Pe Zakham Khate Hain
Aur Muskurate Hain

Kya Bataye Seene Mein
Kis Qadar Dararein Hain
Hum Woh Hai Jo Sheeshon Ko
Tootna Sikhate Hain
Dil Pe Zakhm Khate Hain

Log Humse Kehte Hain
Laal Kyun Hai Yeh Aankhein
Kuchh Nasha Kiya Hai Ya
Raat Soye The Kuchh Kam

Haan Log Humse Kehte Hain
Laal Kyun Hai Yeh Aankhein
Kuchh Nasha Kiya Hai Ya
Raat Soye The Kuchh Kam

Kya Bataye Logon Ko
Kaun Hai Jo Samjhega
Raat Rone Ka Dil Tha
Phir Bhi Ro Na Paye Hum

Dastake Nahi Dete
Hum Kabhi Tere Dar Pe

Teri Galiyon Se Hum
Yun Hi Laut Aate Hain
Dil Pe Zakham Khate Hain

Kuchh Samajh Na Aaye
Kuchh Samajh Na Aaye
Hum Chain Kaise Paye
Baarishein Jo Sath Mein Guzri
Bhool Kaise Jaayein

Kaise Chhod De Aakhir
Tujhko Yaad Karna
Tu Jiye Teri Khatir
Ab Hai Kabool Marna

Tere Khat Jala Na Sake
Isliye Dil Jalate Hain

Dil Pe Zakhm Khate Hain
Aur Muskurate Hain
Hum Woh Hai Jo Sheeshon Ko
Tootna Sikhate Hain

Dil Pe Zakham Khate Hain
Aur Muskurate Hain
Dil Pe Zakham Khate Hain

Dil Pe Zakhm Song Lyrics In Hindi

हस्ता हुआ ये चेहरा
बस नज़र का धोखा है
तुमको क्या खबर कैसे
इन आंसुओ को रोका है
हो तुमको क्या खबर कितना
मैं रात से डरता हु
सौ दर्द जाग उठते है
जब जमाना सोता है

हो तुमपे उँगलियाँ ना उठे
इस लिए गम उठाते है

दिल पे ज़ख्म खाते है
दिल पे ज़ख्म खाते है
और मुस्कुराते है
दिल पे ज़ख्म खाते है
और मुस्कुराते है

क्या बताये सीने में
किस कदर दरारे है
हम वो है जो शीशों
को टूटना सिखाते है
दिल पे ज़ख्म खाते है

लोग हमसे कहते है
लाल क्यूँ है ये आंखे
कुछ नशा किया है या
रात सोये थे कुछ कम

लोग हमसे कहते है
लाल क्यूँ है ये आंखे
कुछ नशा किया है या
रात सोये थे कुछ कम

क्या बताये लोगो को
कौन है जो समझेगा
रात रोने का दिल था
फिर भी रो ना पाए हम

दस्तके नहीं देते
हम कभी तेरे दर ते
तेरी गलियों से हम
यूँही लौट आते है
दिल पे ज़ख्म खाते है

कुछ समझ ना आये
कुछ समझ ना आये
हम चैन कैसे पाये

बारिशें जो साथ में गुज़री
भूल कैसे जाए

कैसे छोड़ दे आंखे
तुझको याद करना
तू जिये तेरी खातिर
अब है कबूल मरना

तेरे खत जला ना सके
इस लिए दिल जलाते है

दिल पे ज़ख्म खाते है
और मुस्कुराते है
हम वो है जो शीशों
को टूटना सिखाते है

दिल पे ज़ख्म खाते है
और मुस्कुराते है
दिल पे ज़ख्म खाते है

Leave a Comment

Your email address will not be published.