Gangubai Kathiawadi – Shikayat Song Lyrics

Gangubai Kathiawadi - Shikayat Song Lyrics

Gangubai Kathiawadi - Shikayat Song Lyrics

Gangubai Kathiawadi – Shikayat Song Lyrics

Song Name : Shikayat
Singer : Archana Gore
Music Director : Sanjay Leela Bhansali
Lyrics by : A.M. Turaz

Shikayat Lyrics In Hindi

किसी की याद में शामें गुजारने के लिए
कलेजा चाहिए खुद को मारने के लिए
के घाट मौत के हर दिन उतरना पड़ता है
ये इश्क़ दिल में मेरी जान उतारने के लिए

सुना है के उनको शिकायत बहुत है
सुना है के उनको शिकायत बहुत है
तो फिर उनको हमसे मोहब्बत बहुत है

सुना है के वो तोड़ देते है दिल तो
हमें टूटने की भी आदत बहुत है
सुना है के उनको शिकायत बहुत है

नज़र भर के वो देखते भी नहीं है
हमारे लिए सोचते भी नहीं है
नहीं है नहीं सोचते भी नहीं है

गुज़रते है हम रोज़ पहलों से उनके
मगर वो हमें रोकते भी नहीं है
हाँ हाँ रोकते भी नहीं है
हाँ हाँ रोकते भी नहीं है

सुना है के नफरत वो करते है हमसे
हमे उनकी नफरत से राहत बहुत है
सुना है के उनको शिकायत बहुत है
सुना है के उनको शिकायत बहुत है

शहर चाहे जीवन का वीरान कर दो
मगर देख कर हमको हैरान कर दो
भरम आज भी है वफाओं का हमको
इजाज़त है जाना खताओं की तुमको

खता पर भी उनकी खफा हम नहीं है
किसी हाल में भी जुदा हम नहीं है
नहीं है नहीं हाँ जुदा हम नहीं है

वो इलज़ाम जितने भी चाहे लगा लें
वफादार है बेवफा हम नहीं है
हाँ हाँ बेवफा हम नहीं है
हाँ हाँ बेवफा हम नहीं है

सुना है के वो भूल जाते है मिल कर
हमें उनकी यादों की दौलत बहुत है
सुना है के उनको शिकायत बहुत है

सुना है सुना है शिकायत बहुत है
हाँ जी हाँ जी सुना है मोहब्बत बहुत है
हाँ हाँ हाँ उनकी नफरत से राहत बहुत है
हमें टूटने की भी आदत बहुत है

शिकायत मोहब्बत हा राहत बहुत है
हमें उनकी यादों की दौलत बहुत है
सुना है सुना है हा हा हमने सुना है
सुना सुना सुना है
सुना है के उनको शिकायत बहुत है

 

Shikayat Lyrics In English

Kisi ki yaad mein shamein guzarne ke liye
Kaleja chahiye khud ko maarne ke liye
Ke ghat maut ke har din utarna padta hai
Ye ishq dil mein meri jaan utarne ke liye

Suna hai ke unko shikayat bahut hai
Suna hai ke unko shikayat bahut hai
Toh fir unko humse mohabbat bahut hai

Suna hai ke woh tod dete hai dil to
Hamein tutne ki bhi adat bahut hai
Suna hai ke unko shikayat bahut hai

Nazar bhar ke woh dekhte bhi nahi hai
Hamare liye sochte bhi nahi hai
Nahi hai nahi sochte bhi nahi hai

Guzrate hai hum roz pehlon se unke
Magar woh humein rokte bhi nahi hai
Han han rokte bhi nahi hai
Han han rokte bhi nahi hai

Suna hai ke nafrat woh karte hai humse
Hume unki nafrat se rahat bahut hai
Suna hai ke unko shikayat bahut hai
Suna hai ke unko shikayat bahut hai

Shehar chahe jeewan ka veeran kar do
Magar dekh kar humko hairan kar do
Bharam aaj bhi hai wafaon ka humko
Ijazat hai jana khataon ki tumko

Khata par bhi unki khafa hum nahi hai
Kisi haal mein bhi juda hum nahi hai
Nahi hai nahi haan juda hum nahi hai

Woh ilzam jitne bhi chahe laga lein
Wafadar hai bewafa hum nahi hai
Han han bewafa hum nahi hai
Han han bewafa hum nahi hai

Suna hai ke woh bhul jate hai mil kar
Humein unki yadon ki daulat bahut hai
Suna hai ke unko shikayat bahut hai

Suna hai suna hai shikayat bahut hai
Han ji han ji suna hai mohabbat bahut hai
Han han han unki nafrat se rahat bahut hai
Humein tuttne ki bhi adat bahut hai

Shikayat mohabbat ha rahat bahut hai
Hamein unki yadon ki daulat bahut hai
Suna hai suna ha ha ha hamne suna hai
Suna suna suna hai
Suna hai ke unko shikayat bahut hai

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.