Bas Ek Sanam Chahiye Lyrics | Best Song 1990

Bas Ek Sanam Chahiye Lyrics | Best Song 1990

Bas Ek Sanam Chahiye Lyrics | Best Song 1990

Bas Ek Sanam Chahiye Lyrics | Best Song 1990

Bas Ek Sanam Chahiye Lyrics


Movie: Aashiqui
Released Year: 1990
Artist: Rahul Roy, Anu Agrawal, Deepak Tijori
Singer: Kumar Sanu
Composer: Nadeem-Shravan
Lyricist: Sameer

Bas Ek Sanam Chahiye Lyrics In English

Ho.. Ho.. Ho..

Ho.. Ho.. Ho..

 

Saanson ki zaroorat hai jaise

Saanson ki zaroorat hai jaise

Zindagi ke liye …

Bas ek sanam chahiye

Aashiqui ke liye

 

Jaam ki zaroorat hai jaise

Jaam ki zaroorat hai jaise

Bekhudi ke liye

Haan ek sanam chahiye

Aashiqui ke liye

Bas ek sanam chahiye

Aashiqui ke liye

 

Waqt ke haathon mein sabki takdeerein hain

Waqt ke haathon mein sabki takdeerein hain

Aaina jhootha hai sachchi tasveerein hain

Jahan dard hai wahin geet hai

Jahan pyaas hai wahin meet hai

Koi na jaane magar jeene ki yahi reet hai

 

Saaz ki zaroorat hai jaise

Saaz ki zaroorat hai jaise mausiki ke liye

Bas ek sanam chahiye aashiqui ke liye

Haan ek sanam chahiye aashiqui ke liye

 

Ho..ho.. Ho..

Ho..ho..ho..

 

Manzilein haasil hain phir bhi ek doori hai

Manzilein haasil hain phir bhi ek doori hai

Bina humraahi ke zindagi adhoori hai

Milegi kahin koi rehguzar

Tanha katega kaise ye safar

Mere sapne ho jahan

Dhoondhoon main aisi nazar

 

Chaand ki zaroorat hai jaise

Chaand ki zaroorat hai jaise

Chaandni ke liye

Bas ek sanam chahiye

Aashiqui ke liye

 

Saanson ki zaroorat hai jaise

Saanson ki zaroorat hai jaise

Zindagi ke liye

Bas ek sanam chahiye

Aashiqui ke liye

Bas ek sanam chahiye

Aashiqui ke liye

 

Aashiqui ke liye..

Aashiqui ke liye..

Aashiqui ke liye..

 

Bas Ek Sanam Chahiye Lyrics In Hindi

हो.. हो.. हो..

हो.. हो.. हो..

 

साँसों की ज़रूरत है जैसे

साँसों की ज़रूरत है जैसे

ज़िंदगी के लिये

बस एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

 

जाम की ज़रूरत है जैसे

जाम की ज़रूरत है जैसे

बेखुदी के लिये

हाँ एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

बस एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

 

वक़्त के हाथों में सबकी तक़दीरें हैं

वक़्त के हाथों में सबकी तक़दीरें हैं

आईना झूठा है सच्ची तसवीरें हैं

जहाँ दर्द है वहीं गीत है

जहाँ प्यास है वहीं मीत है

कोई ना जाने मगर जीने की यही रीत है

 

साज़ की ज़रूरत है जैसे

साज़ की ज़रूरत है जैसे

मौसिक़ी के लिये

बस एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

हाँ एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

 

हो.. हो.. हो..

हो.. हो.. हो..

 

मंज़िलें हासिल हैं फिर भी एक दूरी है

मंज़िलें हासिल हैं फिर भी एक दूरी है

बिना हमराही के ज़िंदगी अधूरी है

मिलेगी कहीं कोई रहगुज़र

तन्हा कटेगा कैसे ये सफ़र

मेरे सपने हो जहाँ

ढूँढूँ मैं ऐसी नज़र

 

चांद की ज़रूरत है जैसे

चांद की ज़रूरत है जैसे

चांदनी के लिये

बस एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

 

साँसों की ज़रूरत है जैसे

साँसों की ज़रूरत है जैसे

ज़िंदगी के लिये

बस एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

बस एक सनम चाहिये

आशिक़ी के लिये

 

(आशिक़ी के लिये) x 3

Click here for more song lyrics

Leave a Comment

Your email address will not be published.