Aankhon Ki Gustakhiyaan | Best Song Lyrics 1999

Aankhon Ki Gustakhiyaan | Best Song Lyrics 1999

Aankhon Ki Gustakhiyaan | Best Song Lyrics 1999

Aankhon Ki Gustakhiyaan

Movie: Hum Dil De Chuke Sanam

Released Year: 1999

Artist: Salman Khan, Ajay Devgan, Aishwarya Rai

Singer: Kavita Krishnamurthy, Kumar Sanu

Lyricist: Mehboob

Composer: Ismail Darbar

Aankhon Ki Gustakhiyaan’ Lyrics In English

Aankhon ki gustakhiyan maaf hon

Ho.. aankhon ki gustakhiyan maaf hon

Ik tuk tumhein dekhti hain

Jo baat kehna chaahe zubaan

Tumse yeh woh kehti hai

 

Aankhon ki sharm-o-haya maaf hon

Tumhein dekh ke jhukti hain

Uthi aankhein jo baat na keh sakeen

Jhuki aankhein woh kehti hain

Aankhon ki, aankhon ki gustakhiyan maaf hon

 

Kajal ka ik til

Tumhaare labon pe laga loon

Haan chanda aur suraj ki

Nazron se tumko bacha loon

O.. palkon ki chilman mein

Aao main tumko chhupa loon

Khyaalon ki yeh shokhiyaan maaf hon

Hardam tumhein sochti hain

Jab hosh mein hota hai jahan

Madahosh yeh karti hain

Aankhon ki sharm-o-haya maaf hon

 

Yeh zindagi aapki hi amaanat rahegi

Dil mein sada aapki hi muhabbat rahegi

In saanson ko aapki hi zaroorat rahegi

Haan is dil ki nadaaniyan maaf hon

Yeh meri kahan sunti hain

Yeh pal pal jo hoti hain bekal sanam

To sapne naye bunti hain

 

Hmm.. aankhon ki, aankhon ki

Gustakhiyan maaf hon

Sharm-o-haya maaf hon

 

Aankhon Ki Gustakhiyaan Lyrics In Hindi

आँखों की गुस्ताखियाँ माफ़ हों

हो.. आँखों की गुस्ताखियाँ माफ़ हों

इक टुक तुम्हें देखती हैं

जो बात कहना चाहे ज़ुबान

तुमसे यह वो कहती है

 

आँखों की शर्म-ओ-हया माफ़ हों

तुम्हें देख के झुकती हैं

उठी आँखें जो बात ना कह सकीं

झुकी आँखें वो कहती हैं

आँखों की, आँखों की गुस्ताखियाँ माफ़ हों

 

काजल का इक तिल

तुम्हारे लबों पे लगा लून

हन चंदा और सूरज की

नज़रों से तुमको बचा लून

ओ.. पलकों की चिलमन में

आओ मैं तुमको च्छूपा लून

ख्यालों की यह शोखियां माफ़ हों

हरदम तुम्हें सोचती हैं

जब होश में होता है जहाँ

मदहोश यह करती हैं

आँखों की शर्म-ओ-हया माफ़ हों

 

यह ज़िंदगी आपकी ही अमानत रहेगी

दिल में सदा आपकी ही मुहब्बत रहेगी

इन साँसों को आपकी ही ज़रूरत रहेगी

हन इस दिल की नादानियाँ माफ़ हों

यह मेरी कहाँ सुनती हैं

यह पल पल जो होती हैं बेकल सनम

तो सपने नये बुनती हैं

 

ह्म.. आँखों की, आँखों की

गुस्ताखियाँ माफ़ हों

शर्म-ओ-हया माफ़ हों

Click here for more song lyrics

Leave a Comment

Your email address will not be published.