Ik Mulaqaat Song Lyrics in Hindi

इक मुलाक़ात Ik Mulaqaat Song Lyrics in Hindi – Dream Girl

Ik Mulaqaat Song Lyrics

Ik Mulaqaat Song Lyrics in Hindi

Ik Mulaqaat Song Lyrics

Lyrics Title: Ik Mulaqaat
Movies: Dream Girl
Singers: Meet Bros Ft. Jonita Gandhi & Nakash Aziz
Lyrics: Shabbir Ahmed
Music: Meet Bros
Music Company: Zee

Ik Mulaqaat Song Lyrics in Hindi

मैं भी हूँ तू भी है आमने सामने
दिल को बहका दिया इश्क़ के जाम ने

मैं भी हूँ तू भी है आमने सामने
दिल को बहका दिया इश्क़ के जाम ने
मुसलसल नज़र बरसती रही
तरसते हैं हम भीगे बरसात में

इक मुलाक़ात…
इक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया
कल तलक वो जो मेरे ख़यालों में थे
रूबरू उनका आना गज़ब हो गया

मोहब्बत की पहली मुलाक़ात का
असर देखो ना जाने कब हो गया
इक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया

मख्तबर दर्द का कुछ ख़याल नही है
इक तरफ मैं कहीं, इक तरफ दिल कहीं

 

आँखों का ऐतबार मत करना
ये उठे तो क़त्ल-ए-आम करती हैं
कोई इनकी निगाहों पे पहरा लगाओ यारों
ये निगाहों से ही खंजर का काम करती हैं

मख्तबर दर्द का कुछ ख़याल नही है
इक तरफ मैं कहीं, इक तरफ दिल कहीं
एहसास की ज़मीन पे क्यूँ धुआँ उठ रहा है
जल रहा दिल मेरा क्यूँ पता कुछ नही

क्यूँ ख़यालों में कुछ बर्फ सी गिर रही
रेत की ख़्वाहिशों में नमी भर रही
मुसलसल नज़र बरसती रही
तरसते हैं हम भीगे बरसात में

एक मुलाक़ात…
इक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया
कल तलाक़ जो मेरे ख़यालों में थे
रूबरू उनका आना गज़ब हो गया

मोहब्बत की पहली मुलाक़ात का
असर देखो ना जाने कब हो गया
इक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया

Ik Mulaqaat Song Lyrics in English

Main bhi hoon tu bhi hai aamne saamne
Dil ko behka diya ishq ke jaam ne

Main bhi hoon tu bhi hai aamne saamne
Dil ko behka diya ishq ke jaam ne
Musalsal nazar barasti rahi
Taraste hain hum bheege barsaat mein

Ik mulaqaat…
Ik mulaqaat mein, baat hi baat mein
Unka yun muskurana ghazab ho gaya

Kal talak woh jo mere khayalon mein thhe
Rubaru unka aana ghazab ho gayaa..

Mohabbat ki pehli mulaqaat ka
Asar dekho na jaane kab ho gaya

Ik mulaqaat mein, baat hi baat mein
Unka yun muskurana ghazab ho gaya

Makhtabar dard ka kuch khayal nahi hai
Ik taraf main kahin, ik taraf dil kahin

Aankhon ka aitbaar mat karna
Ye uthey to qatl-e-aam karti hain
Koi inki niagaahon pe pehra lagaao yaaron
Ye nigaahon se hi khanjar ka kaam karti hain

Makhtabar dard ka kuch khayal nahi hai
Ik taraf main kahin, ik taraf dil kahin
Ehsaas ki zameen pe kyun dhuaan uth raha hai
Jal raha dil mera kyun pata kuch nahi

Kyun khayaalon mein kuch barf si gir rahi
Ret ki khwahishon mein nami bhar rahi
Musalsal nazar barasti rahi
Taraste hain hum bheege barsaat mein

Ek mulaqat…
Ik mulaqat mein, baat hi baat mein
Unka yun muskurana ghazab ho gaya
Kal talak jo mere khayalon mein thhe
Rubaru unka aana ghazab ho gaya

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.